उद्देश्य एवं कृत्य

उद्देश्य एवं कृत्य

  • राजस्थान में हिन्दी साहित्य की अभिवृद्धि के लिए  प्रयत्न करना।
  • राजस्थान के हिन्दी भाषा के साहित्यकारों और विद्वानों में पारस्परिक सहयोग की अभिवृद्धि के लिए प्रयत्न करना।
  • संस्थाओं और व्यक्तियों को हिन्दी साहित्य से संबंधित उच्च स्तरीय ग्रन्थों, पत्र-पत्रिकाओं, कोश ,विश्वकोष, आधारभूत शब्दावली, ग्रन्थ निर्देशिका, सर्वेक्षण व सूचीकरण आदि के सृजन व प्रकाशन में सहायता देना तथा स्वयं भी इनके प्रकाशन की व्यवस्था करना।
  • भारतीय भाषाओं में एवं विश्वभाषाओं में उत्कृष्ट साहित्य का अनुवाद करना तथा ऐसे अनुवाद कार्य को प्रोत्साहित करना या सहयोग देना।
  • साहित्यिक सम्मेलन, विचार-संगोष्ठियों, परिसंवादों, सृजनतीर्थ, रचना पाठ, लेखक शिविर, प्रदर्शनियां, अन्तर प्रादेशिक साहित्यकार बंधुत्व यात्राएं, भाषणमाला, कवि सम्मेलन एवं हिन्दी साहित्य के प्रचार-प्रसार की अन्य योजनाओं आदि की व्यवस्था करना तथा तद्निमित्त आर्थिक सहयोग देना।
  • राजस्थान के साहित्यकारों को उनकी हिन्दी साहित्य की उत्कृष्ट रचनाओं के लिए सम्मानित करना।
  • हिन्दी साहित्य से संबंधित सृजन, अनुवाद, साहित्यिक शोध व आलोचनापरक अध्ययन संबंधी प्रकल्प, भाषा वैज्ञानिक एवं साहित्यिक सर्वेक्षण, लोक साहित्य संग्रह तथा ऐसे ही प्रकल्पों के लिए राजस्थान की संस्थाओं तथा व्यक्तियों को वित्तीय सहयोग देना तथा स्वयं भी ऐसे प्रकल्पों को निष्पन्न करना।
  • राजस्थान के हिन्दी के साहित्यकारों को वित्तीय सहायता, शोधवृत्तियां आदि देना।
  • अकादमी पुस्तकालय, वाचनालय तथा अध्ययन एवं विचार-विमर्श केन्द्र स्थापित करना और इस प्रवृत्ति के विकास के लिए राजस्थान की हिन्दी संस्थाओं को वित्तीय सहयोग देना।
  • ऐसे अन्य कार्य करना जो अकादमी के उद्देश्यों को आगे बढाने के लिए आवश्यक समझे जावें चाहे वे उपरोक्त कृत्यों में हो या न हों

संगठन :

  •  सरस्वती सभा (सर्वोच्च सभा)
  • संचालिका (कार्यकारिणी)
  • वित्त समिति
  • परामर्शदात्री समितियां

 

सम्मान  एवं पुरस्कार योजना -

 

  • सम्मान परम्परा - प्रदेश के वरिष्ठ और मूर्धन्य साहित्यकारों को अकादमी उनके समग्र कृतित्व एवं व्यक्तित्व के आधार पर चार प्रकार से सम्मानित करती है - ‘साहित्य मनीषी’, ‘जनार्दनराय नागर सम्मान’, ‘विशिष्ट साहित्यकार सम्मान और ‘अमृत सम्मान’। ‘साहित्य मनीषी’ सम्मान प्रति तीन वर्ष की कालावधि में राज्य के एक श्रेष्ठ साहित्यकार को प्रदान किया जाता है जिसमें सम्मान स्वरूप 2.51 लाख रु., प्रशस्ति पत्र आदि भेंट किये जाने का प्रावधान है। ‘जनार्दनराय नागर सम्मान’ सम्मान 1.00 लाख रु. का है। ‘विशिष्ट साहित्यकार सम्मान’ में 51 हजार रु., प्रशस्ति पत्र आदि भेंट किये जाते हैं। ‘अमृत सम्मान’ में 31 हजार रु. प्रशस्ति पत्र आदि भेंट किये जाते हैं। 
  • पुरस्कार योजना - अकादमी प्रति वर्ष विज्ञप्ति प्रसारित कर श्रेष्ठ कृतियों को पुरस्कृत करती है। अकादमी द्वारा वरिष्ठ साहित्यकारों के साथ-साथ,  विद्यालयों में अध्ययनरत विधार्थियों को पुरस्कृत करने की योजनाएं हैं। अकादमी का सर्वोच्च ‘मीरा पुरस्कार’ 75 हजार रु. है। इसके अलावा अकादमी प्रतिवर्ष   - ‘सुधीन्द्र’(कविता), ‘रांगेय राघव’(कहानी-उपन्यास), ‘देवीलाल सामर’(नाटक) , ‘देवराज उपाध्याय’ (आलोचना), ‘कन्हैयालाल सहल’(विविध विधाएं), ‘सुमनेश जोशी’(प्रथम प्रकाशित कृति),  ‘श्ांभूदयाल सक्सेना’(बाल साहित्य) के साथ महाविद्यालय और विद्यालय स्तरीय  डॉ. सुधा गुप्ता, चन्द्रदेव शर्मा और परदेशी पुरस्कार की प्रविष्टियां आमंत्रित कर प्रदान करती है। 

 

प्रवृत्तियां -

  • मधुमती पत्रिका - अकादमी की मधुमती मासिक पत्रिका हिन्दी-साहित्य की चर्चित और उल्लेखनीय पत्रिका है। गत् 53 वर्षों से यह पत्रिका प्रकाशित हो रही है। मधुमती पत्रिका ने गत् 58 वर्षों  में राजस्थान की भाषा-साहित्य और संस्कृति को राष्ट्रीय स्तर पर महत्त्वपूर्ण स्थान दिलाया है। मधुमती पत्रिका के माध्यम से राज्य में नवोदित साहित्यकारों को प्रोत्साहित और उन्हें अवसर देने का पूरा कार्य किया गया है।
  • कृतिकार प्रस्तुति योजना - अकादमी ने राजस्थान के स्थापित प्रबुद्ध साहित्यकारों के कृतित्व व उनके साहित्यिक योगदान को सामान्यजन तक पहुंचाने का विनम्र प्रयास ‘कृतिकार प्रस्तुति’ (मोनोग्राफ) प्रकाशन योजना के माध्यम से किया है। इस योजना के अन्तर्गत चुनिंदा रचनाकारों के व्यक्तित्व व कृतित्व पर केन्द्रित विशिष्ट सामग्री प्रकाशित की जाती है।  
  • पुस्तक प्रकाशन सहयोग योजना - अकादमी की प्रमुख प्रवृत्ति श्रेष्ठ व साहित्यिक ग्रंथों का प्रकाशन करना है। इस योजना के अन्तर्गत अकादमी राजस्थान के सृजनशील लेखकों की पुस्तकों, संकलनों, ग्रंथावलियों आदि का प्रकाशन करती है। अकादमी अपने रचनाकारों को पुस्तक प्रकाशन पर यथानियम रायल्टी या मानदेय भी देती हैं। हमारे पुरोधा - इस योजना में दिवंगत पुरोधा साहित्यकारों के व्यक्तित्व व कृतित्व पर हमारे पुरोधा ग्रंथों का प्रकाशन किया गया है।
  • साहित्यिक समारोह -  अकादमी राजस्थान में यथानिर्णय विभिन्न प्रकार के साहित्यिक समारोह प्रतिवर्ष विभिन्न अंचलों में आयोजित करती है। इन समारोहों में लेखक सम्मेलन, साहित्यकार सम्मान समारोह, आंचलिक साहित्यकार समारोह, सेमीनार, कवि गोष्ठियां, लेखक शिविर, अन्तरप्रान्तीय बंधुत्व यात्रा, साहित्यकार सृजन साक्षात्कार, पाठक मंच और साहित्य के सामाजिक सरोकार आदि विषयों पर मूर्धन्य व पुरोधा साहित्यकारों की स्मृति में व्याख्यानमालाएं आदि।
  • पाठक मंच - पाठकों में साहित्यिक कृतियों के प्रति अभिरुचि उत्पन्न करने और एक साहित्यिक वातावरण निर्मित करने के लिए अकादमी ने राजस्थान में विभिन्न स्थानों पर पाठक मंचों की स्थापना की है। इन पाठक मंचों के माध्यम से साहित्यिक कृतियों पर खुली चर्चा तथा बहस की शुरुआत की गयी है। राज्य के विभिन्न जिलों स्थित केन्द्रों पर संचालित इस योजना का व्यापक प्रभाव व स्वागत हुआ है।
  • अध्ययन विचार-विमर्श केन्द्र - यह योजना राजस्थान में अद्यतन अग्रांकित स्थानों पर संचालित है - श्रीडूंगरगढ़, बीकानेर, जोधपुर, कोटा, उदयपुर, भरतपुर। इन केन्द्रों में अकादमी द्वारा पाठकों को अकादमी प्रकाशन व पत्रिका आदि निःशुल्क अध्ययनार्थ उपलब्ध हैं।

 

साहित्यकारों को आर्थिक सहयोग -

  • चिकित्सा व अभावग्रस्त सहयोग - अकादमी द्वरा प्रतिवर्ष रुग्ण साहित्यकारों को चिकित्सा एवं अभावग्रस्त योजना में चिकित्सा सहयोग दिया जाता है। साथ ही अभावग्रस्त साहित्यकारों को भी अिर्थक सहयोग प्रदान किया जाता है।  
  • सक्रिय, संरक्षित सम्मान सहयोग - अकादमी प्रतिवर्ष सक्रिय, संरक्षित सम्मान सहयोग योजना में राजस्थान के वरिष्ठ और सक्रिय साहित्यकारों को सम्मान सहयोग राशि लेखन को प्रोत्साहित करने हेतु प्रदान करती है।  
  • पाण्डुलिपि प्रकाशन सहयोग योजना - अकादमी की ‘पांडुलिपि प्रकाशन सहयोग’ योजनान्तर्गत राज्य के नवोदित लेखकों से पांडुलिपियों पर सहयोग दिया जाता है। सत्र 82-83 से प्रारंभ की गई इस योजना में अब तक अकादमी के सहयोग से अद्यतन 606 पांडुलिपियां प्रकाशित हुई हैं।  
  • प्रकाशित ग्रंथों पर सहयोग -  इस योजनान्तर्गत लेखकों व लेखन को प्रोत्साहित करने हेतु अकादमी  प्रकाशित पुस्तकों पर आर्थिक सहयोग प्रदान करती है।
  • साहित्यिक संस्थाओं को सहयोग - अकादमी से इस समय राजस्थान स्थित 8 संस्थाएं सम्बद्ध और 13 मान्यता प्राप्त संस्थाएं हैं, जो सम्पूर्ण राजस्थान में निरन्तर साहित्यिक प्रसारात्मक कार्यों में संलग्न हैं। 
  • वृहद शोध संदर्भ केन्द्र - शोधार्थियों, आमजन हेतु अकादमी भवन में ही एक शोध संदर्भ, पुस्तकालय-वाचनालय का संचालन किया जा रहा है। इस पुस्तकालय में शोधपरक हिन्दी भाषा और साहित्य की 28,299 महत्वपूर्ण शोध ग्रंथ उपलब्ध हैं। वाचनालय में अध्ययनार्थ आने वाले पाठकों के लिए 79 साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक व त्रैमासिक पत्र-पत्रिकाओं तथा 13 दैनिक पत्र उपलब्ध हैं।
  • ध्वनि-चित्र संकलन - लब्ध प्रतिष्ठ व वरिष्ठ साहित्यकारों की वाणी को संरक्षित रखने की दृष्टि से यह योजना प्रारंभ की गई है। इस योजना में अद्यतन राजस्थान के 53 रचनाकारों की रचनाएं उन्हीं की वाणी में संग्रहीत हैं। 
  • एकात्म सभागार - माननीय मुख्यमंत्री, राजस्थान की घोषणा के अन्तर्गत अकदमी में एकात्म सभागार का निर्माण किया गया है। उक्त सभागार में 200 व्यक्तियों के बैठकों की सुविधा है और इस सभागार ए.सी. की सुविधा उपलब्धहै । उक्त सभागार की लागत 230.58 लाख रु. है।