सम्मान परम्परा

साहित्य के क्षेत्र में अपनी साधना, मौलिक चिंतन एवं श्रेष्ठ सृजन से साहित्य-जगत को समृद्ध करने वाले प्रांत के सिद्ध व श्रेष्ठ साहित्यकारों को सम्मानित करने की अकादमी की सुदीर्घ परंपरा एवं लक्ष्य रहा है। राजस्थान साहित्य अकादमी, उन मूर्धन्य साहित्यकारों को जिन्होंने अपने रचनात्मक योगदान से साहित्य को विस्तृत व विविध आयाम प्रदान किये तथा नये मान व जीवन मूल्यों की सशक्त धारा प्रवाहित की, ऐसे सरस्वती के उपासकों के कृतित्व के प्रति आदरभाव व कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए उन्हें ‘साहित्य-मनीषी’ तथा ‘विशिष्ट साहित्यकार सम्मान’ से अलंकृत कर गौरवान्वित होती है।

 

सम्मान पुस्तिका